बुलंद हौसले


बुलंद हौसले

मुसीबते हर व्यक्ति के ज़िन्दगी में आती और जाती रहती है । जब मुसीबते आती हैं तो अच्छे से अच्छे दोस्त और अच्छे से अच्छे रिश्तेदार या अच्छे संबंधों वाले लोग भी साथ छोड़ देते हैं। यकीन करना हो तो कभी आजमा के देख लेना।

मुसीबते 

  • प्रॉब्लम्स हमारी ज़िन्दगी की एक अभिन्न सच्चाई है, मुसीबते हर व्यक्ति के ज़िन्दगी में आती और जाती रहती है । जहा कुछ लोग इस बात को समझ लेते है तो वही कई लोग पूरी ज़िन्दगी इसका रोना रोते है ।
  • हम सभी के जीवन में एक ऐसा समय आता है जब सभी चीज़े हमारे विरोध में हो रही होती है या फिर अचानक कुछ ऐसा होता है जिसकी हमें जरा भी उम्मीद नहीं होती । 
  • जैसे की किसी को प्यार में धोखा मिलता है, तो किसी की अच्छी खासी जॉब छूट जाती है, कोई अपनों से बिछड़ जाता है तो कोई Exams में फेल हो जाता है ।
दोस्तों ज़िन्दगी में हमारे सामने ऐसी मुसीबते आती रहती है और हम उन मुसीबतो के सामने हमेशा झुक जाते है । अक्सर हमें समझ नहीं आता की आगे क्या करना चाहिये और इस मोड़ पर हम ये तय नहीं कर पाते कि क्या सही है और क्या गलत ?
मुसीबते हमारी ज़िंदगी की एक सच्चाई है। कोई इस बात को समझ लेता है तो कोई पूरी ज़िंदगी इसका रोना रोता है। ज़िंदगी के हर मोड़ पर हमारा सामना मुसीबतों(problems) से होता है. इसके बिना ज़िंदगी की कल्पना नहीं की जा सकती।अक्सर हमारे सामने मुसीबते आती है तो तो हम उनके सामने पस्त हो जाते है। उस समय हमे कुछ समझ नहीं आता की क्या सही है और क्या गलत। हर व्यक्ति का परिस्थितियो को देखने का नज़रिया अलग अलग होता है। कई बार हमारी ज़िंदगी मे मुसीबतों का पहाड़ टूट पढ़ता है। उस कठिन समय मे कुछ लोग टूट जाते है तो कुछ संभाल जाते है।

मनोविज्ञान के अनुसार इंसान किसी भी problem को दो तरीको से देखता है;
 
  1. Problem पर  focus करके
  2. Solution पर  focus करके
Problem focus peoples अक्सर मुसीबतों मे ढेर हो जाते है। इस तरीके के इंसान किसी भी मुसीबत मे उसके हल के बजाये उस मुसीबत के बारे मे ज्यादा सोचते है। वही दूसरी ओर Solution focus peoples मुसीबतों मे उसके हल के बारे मे ज्यादा सोचते है। इस तरह के इंसान मुसीबतों का डट के सामना करते है। 

नेपोलियन बोनापार्ट की कहानी

आज मै आपके साथ एक महान solution focus इंसान की कहानी शेयर करने जा रहा हु जो आपको किसी भी मुसीबत से लड़ने के लिए प्रोत्साहित (motivate) करेगी। दोस्तो आपने नेपोलियन बोनापार्ट  का नाम तो सुना ही होगा। जी हा वही नापोलियन बोनापार्ट जो फ़्रांस के एक महान निडर और साहसी शासक थे जिनके जीवन मे असंभव नाम का कोई शब्द नहीं था। इतिहास में नेपोलियन को विश्व के सबसे महान और अजय सेनापतियों में से एक गिना जाता है। वह इतिहास के सबसे महान विजेताओं में से माने जाते थे । उसके सामने कोई रुक नहीं पाता था। 

ये कहानी है नेपोलियन बोनापार्ट की, जी हा वही नेपोलियन बोनापार्ट जिसको विश्व के सबसे महान और निडर योद्धाओ में गिना जाता है ।  कहते है कि नैपोलियन के कुशल नेतृत्व में इनकी सेना कभी पराजित नहीं होती थी । एक बार नेपोलियन आल्पस पर्वत को पार करने के इरादे से अपनी सेना के साथ निकले, लेकिन सामने एक विशालकाय पहाड़ को देखकर सेना में हलचल मच गयी ।

नेपोलियन ने सैनिको के इरादों को बुलंद करते हुए सेना को चढ़ाई करने का आदेश दिया ।  तभी वहा खड़ी एक बुजुर्ग औरत पास आकर बोली, यहाँ जितने भी लोग आये है सब मारे गए है क्या तुम भी मरना चाहते हो ? अगर तुम्हे अपनी ज़िन्दगी से प्यार है तो वापस चले जाओ ।

उस औरत की ये बातें सुनकर नेपोलियन उत्साहित होकर बोला – आपने मेरे हौसले को दोगुना कर और इसके लिए मै आपका ज़िन्दगी भर अहसानमंद रहूँगा, और ये कहते हुए झट से हीरो का हर उतारकर उस बुजुर्ग महिला को पहना दिया ।

वो औरत नेपोलियन के बातो से प्रभावित होकर बोली – तुम पहले इंसान हो जो मेरी बातें सुनकर डरे नहीं, जो करने या मरने की सोच और मुसीबतो का सामना करने का इरादा रखते है वो लोग कभी नहीं हारते । इसके बाद नेपोलियन ने उस पर्वत पर चढाई भी की और उस युद्ध को जीता भी, क्योकि नेपोलियन मुसीबतो को देखकर भागे नहीं बल्कि डटकर उसका मुकाबला किया । दोस्तों जिनके हौसले बुलंद होती है उनके सामने बड़ी से बड़ी मुश्किलें भी घुटने टेक देती है ।

हर मंजिल होगी अपनी एक ऐसे सफर का इरादा कर लो, न हारेंगे हौसला उम्रभर तुम खुद से ये वादा कर लो ।
जो करने या मरने और मुसीबतों का सामना करने का इरादा रखते है, वह लोग कभी नही हारते।

कोई अपना नहीं होता

“पतझड़ में मजबूत पत्ते भी झड़ जाया करते हैं”  बात छोटी सी है और देखने में मामूली सी लगती लेकिन कहने वाला बहुत बड़ी बात कह गया है। इस कहावत का मतलब ये है कि जब परेशानियां आती हैं तो अच्छे से अच्छे दोस्त और अच्छे से अच्छे रिश्तेदार या अच्छे संबंधों वाले लोग भी साथ छोड़ देते हैं। यकीन करना हो तो कभी आजमा के देख लेना।
 
  • सफल होना है तो खुद को इतना मजबूत बनाओ कि अकेले के दम पर ही सब कुछ कर सको।
  • इतिहास उठा के देख लो जितने भी महान लोग हुए हैं वो सब अभावों में ही जिए हैं। कोई सहारा ना था और ये सहारा नहीं होना ही उनके लिए वरदान साबित हुआ। 
  • सच तो ये है कि परेशानियों में ही असली टेलेंट निकल के आता है। अपने मजबूत पत्तों पे भरोसा रखना छोड़ दो।
  • हम बचपन से ही सहारे लेकर जीते हैं, बचपन में माँ बाप का सहारा, स्कूल में बड़े भाई का सहारा, नौकरी में रिश्तेदारों का सहारा। 
  • हम खुद कहाँ कुछ करते हैं आधी उम्मीदें तो हमारी सहारों से जुडी हैं।
  • जब परेशानियां आती हैं तो लोग बोलते हैं – “कोई अपना नहीं होता”, अरे मेरे दोस्त, अपना कोई था ही कब, सब मोह माया है। 
  • पतझड़ आएगा तो पत्ते झड़ेंगे ही, चाहे कितना भी मजबूत पत्ता क्यों ना हो, ये तो कुदरत का नियम है।
  • सोचो भगवान् ने हम सबको अलग अलग हाथ, कान, पैर, आँख ये सब क्यों दिए क्योंकि भगवान चाहते हैं कि हर इंसान अपना काम खुद कर सके। अगर सहारे की ही बात होती तो कुछ लोगों को ही हाथ पैर दे देते वही दूसरों को सहारा देते रहते।
  • Self Dependent होना बहुत बड़ी चीज़ है। अभी भी वक्त है इससे पहले की “पतझड़” आये और आपके पत्ते झड़ जायें। उठिये और सबल बनिए क्योंकि आपको आगे तक जाना है… 
  • ऐसा नहीं है कि यह मुसीबते हम जैसे लोगो के सामने ही आती है, भगवान राम के सामने भी मुसीबते आयी है। विवाह के बाद, वनवास की मुसीबत। उन्होने सभी मुसीबतों का सामना आदर्श तरीके से किया। तभी वो मर्यादा पुरषोतम कहलाये जाते है। मुसीबते ही हमें आदर्श बनाती है। 
अंत मे एक बात हमेशा याद रखिये;
जिंदगी में मुसीबते चाय के कप में जमी मलाई की तरह है,
और कामयाब वो लोग हैं जिन्हेप फूँक मार के मलाई को साइड कर चाय पीना आता 



About allinoneindia.net


Welcome to All In One India | allinoneindia.net is a junction , where you opt for different service and information.

Follow Us


© 2016 to 2018 www.allinoneindia.net , All rights reserved.