कैरियर प्लानिंग कैसे करें ?


कैरियर प्लानिंग कैसे करें ?

आजकल का युवा बहुत तेज गति से सबकुछ पा लेना चाहता है। वह चाहता है कि अलादीन के चिराग की तरह उसे सफलता मिले। उसकी प्रवृत्ति जल्द से जल्द खूब पैसा कमाने की है। वह करियर के प्रति भी बहुत जल्द सोच लेना चाहता है। 
आजकल का युवा बहुत तेज गति से सबकुछ पा लेना चाहता है। वह चाहता है कि अलादीन के चिराग की तरह उसे सफलता मिले। उसकी प्रवृत्ति जल्द से जल्द खूब पैसा कमाने की है। वह करियर के प्रति भी बहुत जल्द सोच लेना चाहता है। युवाओं करियर को लेकर मन में कई प्रकार के प्रश्न उठते हैं। उसे कौनसा विषय लेना चाहिए। कौन से क्षे‍त्र में रोजगार की अधिक संभावनाएं हैं। उसके लिए उसे क्या तैयारियां करनी होगी।

बच्चों की रुचि

करियर काउंसलर सचिन भटनागर कहते हैं कि बच्चों के रुचि के क्षेत्र बचपन में ही उनके मन में सेट हो जाते हैं, इन सबकी तैयारियां वे स्कूल लाइफ से ही शुरू कर देते हैं क्योंकि उनकी जड़ें जितनी मजबूत होंगी, उतने ही ज्यादा बेहतर तरीके से वे अपना करियर बना पाएंगे। मान लीजिए किसी बच्चे को क्रिकेट में करियर बनाना है तो वह बचपन से उसकी प्रैक्टिस करता है, उसकी ट्रेनिंग लेता है। जिन्हें गायन या डांस में अपना करियर बनाना है वे उनकी क्लास ज्वाइन करते हैं, तभी आगे चलकर वे इस क्षेत्र में महारथ हासिल करते हैं। 9वीं या 10वीं के बाद बच्चों को यह निर्णय लेना पड़ता है उन्हें कौनसा सब्जेक्ट लेना है इसीलिए 10वीं कक्षा से करियर के प्रति सजग हो जाना चाहिए हैं। किस क्षेत्र में करियर बनाना है उस क्षेत्र में माता-पिता को बच्चों को तैयारियां शुरू करवा देना चाहिए। कई बच्चे जो करियर के प्रति तैयारियों में असमंजस में रहते हैं तो काउंसलर्स उनकी मदद करते हैं। बिना पक्षपात के काउंसलर्स उनके बारे में पूरी जानकारी हासिल कर लेते है कि बच्चों की रुचि किस विषय में है। उनकी योग्यता क्या हैं। उन्हें किस दिशा में अपनी तैयारियां करनी चाहिए।
 
इसलिए करियर की प्लानिंग के दौरान इस बात का खास ध्यान रखा जाना चाहिए कि आपकी रुचि किस क्षेत्र में हैं और उसी क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए प्रयास करना चाहिए ताकि आप अपने करियर की ऊंचाइयों को हासिल कर सकें।

करियर प्लानिंग

करियर प्लानिंग कैसे करें इन सब प्रश्नों पर करियर काउंसलर सचिन भटनागर का कहना है कि करियर प्लानिंग के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है कि आपकी रुचि किस क्षेत्र में है और उस क्षेत्र में रोजगार की कितनी संभावनाएं हैं। उसके बाद बारी आती है कॉलेज की। जिस क्षेत्र में करियर बनाना है, उस विषय से संबंधित कॉलेज या शिक्षण संस्थान कहां है। उस विषय से संबंधित अच्‍छी फैकल्टी कहां है। इन सब बातों की खोज के बाद हमें अपने करियर की दिशा में कदम बढ़ाने चाहिए। 

यह सवाल युवा वर्ग के लिए बहुत अहम है। 10वीं कक्षा के बाद विद्यार्थियो के सामने यह यक्ष प्रश्न खड़ा हो जाता है कि वे कौन क्षेत्र में करियर बनाएं, जिसमें अच्छी संभावनाएं हों और साथ ही यह कम खर्चीला हो। अगर ऐसे विद्यार्थियों की रुचि मैकेनिकल क्षेत्र में है तो भारत सरकार द्वारा संचालित औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) में इनके लिए बेहतर विकल्प हो साबित हो सकते हैं।

आईटीआई में प्रशिक्षण प्राप्त करने के उपरांत सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों जैसी एनटीपीसी, भेल, में रोजगार के अवसर मिलते हैं, क्योंकि ये कंपनियां आईटीआई के साथ अनुबंध करती हैं। आईटीआई में कम्यूटर ऑपरेटर, इलेक्ट्रिकल, विद्युतकार, रेडियो, टीवी मैकेनिक, डीजल मैकेनिक जैसे कोर्स इनमें संचालित होते हैं। इन संस्थानों में सरकार द्वारा कई मैकेनेकिल, इलेक्ट्रॉनिक, रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने वाले कोर्स संचालित किए जाते हैं। इन संस्थानों में 10वीं के बाद प्रवेश पाया जा सकता है। इन संस्थानों में मैकेनिकल क्षेत्र में विद्यार्थियों को व्यवहारिक ज्ञान भी दिया जाता है। राज्य के हर जिले में आईटीआई की शाखाएं रहती हैं। इन संस्थाओं में प्रशिक्षण के बाद वार्षिक परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं। प्रैक्टिकल टेस्ट भी होते हैं। आईटीआई में सरकार के नियमों के अनुसार प्रशिक्षणार्थियों के छात्रवृति की सुविधाएं भी प्रदान की जाती हैं।

12 वीं के बाद के विकल्प
जब हम सब दसवीं में थे तब तक हमे सारे सब्जेक्ट पढ़ने पड़ते थे लेकिन दसवीं के बाद हमने अपनी पसंद के विषय का चुनाव किया की जैसे की हमे आगे इंजीनियरिंग या डॉक्टर की तैयारी करनी है तो हमने विज्ञान शाखा का चुनाव किया, अकाउंट के क्षेत्र के लिए कॉमर्स का चुनाव किया तथा वकील, सिविल या पॉलिटिक्स के क्षेत्र के लिए आर्ट्स का चुनाव किया था इसी तरह आपको अपने उसी चुने हुए क्षेत्र की ओर आगे बढ़ना है जिसे की आपकी रूचि थी या रूचि है। लेकिन कठिनाई ये आती है की अब 12वीं के बाद आपको समझ नहीं आ रहा होता की आगे क्या किया जाये क्यों की आज-कल इतने सारे कोर्स उपलब्ध है की आप भ्रमित हो जाते हो। चलिए हम आपको बताते है की आप आगे क्या कोर्स कर सकते हो या किस नौकरी के लिए तैयारी कर सकते हो। 

12वीं विज्ञान के बाद 

हम सबको पता है की जो बच्चे दसवीं में अच्छे अंक प्राप्त करते हैं अक्सर वही 12वीं में साइंस का चुनाव करते हैं। साइंस स्ट्रीम थोड़ी सी मुश्किल होती है अतः जो बच्चे इस स्ट्रीम को चुनते हैं वे अक्सर इंजीनियर या डॉक्टर के लिए तैयारी करते हैं तथा अन्य कुछ बच्चे कॉमर्स या आर्ट्स लेते हैं जिन्हे बैंक या सिविल / वकील / पॉलिटिक्स में रूचि होती है।

वहीं विज्ञान स्ट्रीम में भी बच्चों के पास चुने हुए विषय होते हैं, आपके पास भौतिक, रसायन विज्ञान व गणित विषय या भौतिक, रसायन विज्ञान व बायोलॉजी विषय होते हैं या गणित व बायोलॉजी दोनों ही विषय होते हैं। हमने आपकी सुविधा के लिए विज्ञान विषयों के आधार पर जानकारी दी है आप अपने विषय के अनुसार जानकारी देख सकते हैं।

12वीं के बाद बी.एससी

12वीं के बाद बी.एससी कोई भी छात्र कर सकता है। 12 के बाद आप बी.एससी इन मैथ / फिजिक्स / केमिस्ट्री /बायोलॉजी, बी.एससी एग्रीकल्चर इन में से किसी से भी कर सकते हैं। बी.एससी के बाद आप मास्टर की डिग्री मतलब एम.एससी कर सकते हैं या आप एम.बी.ए भी कर सकते हैं। बी.एससी एक कॉमन कोर्स है जो विज्ञान स्ट्रीम से 12वीं पास कोई भी छात्र कर सकता है।

12th PCBM के साथ (Physics, Chemistry, Biology, Maths)
जिन बच्चों ने भौतिक, रसायन विज्ञान, बायोलॉजी व गणित विषयों के साथ कक्षा 12 पूरी की है वे यहाँ नीचे दिए हुए फ्लो-चार्ट से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं की उन्हें किस क्षेत्र में कैरियर बनाना चाहिए। हमने यहाँ कुछ चुनिंदा कोर्सेज के नाम बताए है जिन्हे अपना कर आप अपना भविष्य उज्जवल कर सकते हैं।after-12-board-aglasem12th PCB के साथ (Physics, Chemistry, Biology)

जिन बच्चों ने 12वीं भौतिक, केमिस्ट्री और बायोलॉजी में किया है वे बच्चे कक्षा 12 के बाद मेडिकल जैसे MBBS व BDS के एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी कर सकते हैं। वैसे इसके अतिरिक्त और भी विकल्प मौजूद हैं। आप बी.फार्मा, बी.एससी नर्सिंग, पैरामेडिकल, BAMS यानी बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन ऐंड सर्जरी आदि कोर्स कर सकते हैं। आप नीचे दिए हुए इमेज से १२वीं के आगे के लिए कोर्सेज देख सकते हो।after-12-board-aglasem

12th PCM के साथ (Physics, Chemistry, Maths)
फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स से 12वीं करने वाले अभियार्थी बारहवीं के बाद इंजीनियरिंग के क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं , इसके लिए आपको आईआईटी जेईई जैसे प्रवेश परीक्षा की तैयारी करनी चाहिए। इसके अतिरिक्त आप बी.सी.ए, बी.एससी, बी.आर्च, होटल मैनेजमेंट आदि जैसे कोई कोर्स कर सकते हैं इसके उपरांत आप अच्छी नौकरी प्राप्त कर सकते हैं। जिन बच्चों ने 12वीं गणित, भौतिकी और रसायन विज्ञान से की है वो नीचे दिए हुए इमेज में अपने अनुसार कोर्स देख सकते हैं। 

12वीं के बाद NDA
अगर आप 12वीं के आप इंडियन आर्मी, इंडियन एयर फ़ोर्स या इंडियन नेवी में नौकरी करना चाहते हैं तो आप NDA की तैयारी कर सकते हैं। एनडीए आर्मी, एयरफोर्स और नेवी में भर्ती के लिए सम्मिलित प्रवेश परीक्षा है।

12वीं वाणिज्य के बाद
जो बच्चे वाणिज्य या कॉमर्स से 12वीं कक्षा पास कर चुके है वे बी.कॉम, बी.बी.ए, बी.बी.आई, सीए, बीएमएस आदि कोर्स कर सकते हैं। इन कोर्सेज के बाद आप अकाउंटेंट, कंपनी सेक्रेटरी, बैंक, मैनेजमेंट आदि में नौकरी प्राप्त कर सकते हो। नीचे दिए हुए इमेज से आप अच्छे से अपने मुताबिक कोर्स को समझ सकते हैं। after-12-board-aglasem

12वीं आर्ट्स के बाद 
बहुत से लोग बोलते हैं की आर्ट्स से 12वीं के बाद कोई स्कोप नहीं है तो ऐसा कुछ भी नहीं सब मिथ है। आप आर्ट्स से होने के बावजूद भी अच्छा कमा सकते हो। हाँ बस आपको इसके लिए कोई अच्छा सा कोर्स करना होगा, आप वकील के लिए तैयारी कर सकते हो, सोशल वर्कर बन के काम कर सकते हो, या आप सरकारी नौकरी की भी तैयारी कर सकते हो।after-12-board-aglasem

12वीं के बाद कुछ अन्य प्रचिलित कोर्स

तो आप सब 12वीं के बाद कोई अच्छा सा प्रोफेशनल कोर्स, डिप्लोमा, वोकेशनल कोर्स आदि ऐसा कुछ कर सकते हो। तो चलिए आपको बताते है कुछ ऐसे कोर्सेज के बारे में जिनसे आप एक मोटी रकम तो कमा सकते ही है साथ ही साथ आप इंजॉय भी कर सकते हैं।

इवेंट मैनेजमेंट
अगर आप पार्टियों के शौकीन है तो आपके लिए इससे अच्छा कोर्स कोई दूसरा नहीं है। इस कोर्स से आप एक अच्छी नौकरी तो पा ही जायेंगे तथा आप अपने शौक को भी पूरा कर पाएंगे। इवेंट मैनेजमेंट अंतराष्ट्रीय स्तर पर बहुत तेज़ी से बढ़ने वाली फील्ड है। इसमें भविष्य की बहुत संभावनाएं हैं।

एनीमेशन कोर्स
एनीमेशन इसका नाम तो आपने सुना ही होगा यहाँ तक की आपने देखा भी होगा। आज कल जितने भी कॉर्टून फ़िल्में बनती हैं उन सब में ही एनीमेशन का उपयोग होता है और तो और फिल्मों में साई-फाई एक्शन सीन के लिए एनीमेशन का यूज़ बहुत तेज़ी से बढ़ रहा है तो इस क्षेत्र में भी भविष्य की बहुत संभावनाएं हैं।

टूरिज्म कोर्स
अगर आप घूमने-फिरने के शौकीन है तो ये कोर्स आपके लिए ही बना है। आप इस कोर्स के बाद घुमते हुए अच्छे खासे पैसे भी कमा सकते हैं। अब तो देश भर में बहुत सारे कॉलेज इस कोर्स को करवा रहे हैं और इसकी फीस भी प्रोफेशनल कोर्सेज की तुलना में बहुत काम है।

मास कम्युनिकेशन और जर्नलिज्म
अगर आप पत्र्कारिता के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो आप मास कम्युनिकेशन का कोर्स कर सकते हैं। इसके द्वारा आप किसी न्यूज़ चैनल में नौकरी पा सकते हो, वीडियोग्राफी, एक्टिंग आदि में अपना करियर बना सकते हो।

लैंग्वेज कोर्स
अगर आपको नयी नयी भाषाएँ सीखने में अच्छा लगता है तो आप लैंग्वेज कोर्स ज्वाइन कर सकते हैं। इस दू-भाषिए कोर्स के आप ट्रेवल गाइड जैसा पार्ट टाइम जॉब कर के भी अच्छे पैसे कमा सकते हैं तथा साथ ही साथ आप सरकारी नौकरी भी प्राप्त कर सकते हो या किसी अच्छी कंपनी में मोटी पगार पर नौकरी प्राप्त कर सकते हो।

एग्रीकल्चर क्षेत्र
आज कल कृषि क्षेत्र में रोजगार के बहुत उज्जवल भविष्य है। भारतीय कृषि आज आधुनिकता की ओर अग्रसर है तो इसके लिए बहुत सारे एग्रीकल्चर इंजीनियर, डेरी इंजीनियर आदि की आवश्यकता है। आप इनमे भी अपना कैरियर बना सकते हैं इसके लिए बहुत सारे एग्रीकल्चर कोर्स उपलब्ध हैं।

होटल मैनेजमेंट
आज कल के युवाओं के बीच पसंदीदा कोर्स है ये। होटल मैनेजमेंट आज के समय का बहुत ही ज्यादा प्रचलित कोर्स है। इसमें आप होटल से सम्बंधित जानकारी प्राप्त करते हो जैसे की आप सेफ बन सकते हो और देश-विदेश में होटल में अच्छी नौकरी प्राप्त कर सकते हो।

12वीं में कम मार्क्स आए हैं या महंगे कोर्स करने को जेब मंजूरी नहीं दे रहा तो यहां हम कुछ ऐसे विकल्प लेकर आए हैं, जो सस्ते तो है ही इसमें आपको फटाफट नौकरी भी मिलेगी. यहां तक कि ये कोर्स करने के बाद आप अपना स्टार्टअप भी शुरू कर सकते हैं. आपको करोड़पति बनने में देर नहीं लगेगी...
20 साल के हो गए हैं, तो करियर से जुड़ी ये 5 जरूरी बातें जान लें

1. इंटीरियर डिजाइनिंग
रचनात्मक कार्यों में मन लगता है और आपको डिजाइनिंग, पेंटिंग में मन लगता है तो आप इंटीरियर डिजाइनिंग में डिप्‍लोमा कर सकते हैं. डिप्‍लोमा शॉट टर्म कोर्स के रूप में आपको जल्‍द ही अर्निंग के मौके देगा. आप अपना फर्म भी खोल सकते हैं.

2. एनीमेशन और मल्‍टीमीडिया कोर्सेज
एनीमेशन और मल्‍टीमीडिया कोर्सेज महंगे होते हैं, लेकिन आप किसी प्रोफेशनल इंस्‍टीटृयूट से डिप्‍लोमा कोर्स करके एक बेहतर कॅरियर ऑप्‍शन चुन सकते हैं. जॉब के ऑप्‍शन इस फील्‍ड में भी बहुत हैं, बशर्ते आप क्रिएटिव और इंट्रेस्‍टेड हों.

3. कंप्यूटर प्रोग्रामिंग
अगर साइंस फील्‍ड से हैं, और आपकी रुचि कंप्यूटर प्रोग्रामिंग, वेबसाइट, सॉफ्टवेयर या ऐप बनाने में है तो आप डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं. शॉर्ट टर्म कोर्स कम पैसे में होगा जॉब लगना भी आसान है.

4. योग में करियर
देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी योग पर जोर देते हैं. स्वस्थ रहने के लिए वो लोगों को योग करने की सलाह भी देते हैं. इन दिनों लोगों में योग के प्रति जागरुकता भी बढ़ी है. ऐसे में आप योग को करियर के तौर पर अपना सकते हैं. आपको इसके लिए कोर्स के साथ प्रैक्‍टिस की भी बहुत जरूरत होगी. 12वीं के बाद छोटा सा कोर्स करके इसमें आप धीरे-धीरे आगे बढ़ सकते हैं.

5. जिम इंस्‍ट्रक्‍टर
फिटनेस को लेकर आजकल लोग बेहद जागरूक हो रहे हैं. लिहाजा आप जिम में इंस्‍ट्रक्‍टर भी आप हो सकते हैं. लेकिन यहां भी इंट्रेस्‍ट का ही सवाल है. यह एक बेहतर करियर ऑप्‍शन है. आप 6 से 8 महीने के कोर्स में आप किसी भी बड़ी जिम में ट्रेनर इंस्‍ट्रक्‍टर हो सकते हैं.

साइंस स्‍ट्रीम से 12वीं करने के बाद 

साइंस स्‍ट्रीम से 12वीं करने के बाद अकसर स्‍टूडेंट्स डॉक्‍टर या इंजीनियर बनना चाहते हैं. वहीं, कुछ ऐसे भी स्‍टूडेंट्स हैं जो डॉक्‍टर, इंजीनियर तो बनना नहीं चाहते लेकिन उन्‍हें इसके अलावा दूसरा कोई अप्‍शन भी समझ में नहीं अता है और करियर को  लेकर कंफ्यूज रहते हैं. असल में साइंस एक बहुत बड़ी स्‍ट्रीम हैं जिसमें एक या दो नहीं बल्कि ढेरों विकल्‍प मौजूद हैं. हम यहां पर अापको कुछ ऐसे ही अप्‍शंस के बारे में बता रहे हैं जो आपको अपने करियर में एक अलग मुकाम हासिल करने में मदद करेंगे:

नैनो-टेक्नोलॉजी: ग्लोबल इनफॉर्मेशन इंक की रिसर्च के मुताबिक, 2018 तक नैनो टेक्नोलॉजी इंडस्ट्री के 3.3 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद है. नैस्कॉम के मुताबिक 2015 तक इसका कारोबार 180 अरब डॉलर से बढ़कर 890 अरब डॉलर हो जाएगा. ऐसे में इस फील्ड में 10 लाख प्रोफेशनल्स की जरूरत होगी. 12वीं के बाद नैनो टेक्‍नोलॉजी में बीएससी या बीटेक और उसके बाद इसी सब्‍जेक्‍ट में एमएससी या एमटेक करके इस क्षेत्र में शानदार करियर बनाया जा सकता है.

स्पेस साइंस: यह बहुत ब्रॉड फील्ड है. इसके तहत कॉस्मोलॉजी, स्टेलर साइंस, प्लैनेटरी साइंस, एस्ट्रोनॉमी जैसे कई फील्ड्स आते हैं. इसमें तीन साल की बीएससी और चार साल के बीटेक से लेकर पीएचडी तक के कोर्सेज खास तौर पर इसरो और बेंगलुरु स्थित IISC में कराए जाते हैं.

एस्ट्रो-फिजिक्स: अगर आप सितारों और गैलेक्‍सी में दिलचस्पी रखते हैं तो 12वीं के बाद एस्ट्रो-फिजिक्स में रोमांचक करियर बना सकते हैं. इसके लिए आप चाहें तो पांच साल के रिसर्च ओरिएंटेड प्रोग्राम (एमएस इन फिजिकल साइंस) और चार या तीन साल के बैचलर्स प्रोग्राम (बीएससी इन फिजिक्स) में एडमिशन ले सकते हैं. एस्ट्रोफिजिक्स में डॉक्टरेट करने के बाद स्टूडेंट्स इसरो जैसे रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन में साइंटिस्ट बन सकते हैं. 

एनवायर्नमेंटल साइंस: इस स्ट्रीम में पर्यावरण पर इंसानी गतिविधियों से होने वाले असर का अध्ययन किया जाता है. इसके तहत इकोलॉजी, डिजास्टर मैनेजमेंट, वाइल्ड लाइफ मैनेजमेंट, पॉल्यूशन कंट्रोल जैसे विषय पढ़ाए जाते हैं. इन सभी सब्जेक्ट्स में एनजीओ और यूएनओ के प्रोजेक्ट्स बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं. ऐसे में जॉब की अच्छी संभावनाएं हैं.

वॉटर साइंस: यह जल की सतह से जुड़ा विज्ञान है. इसमें हाइड्रोमिटियोरोलॉजी, हाइड्रोजियोलॉजी, ड्रेनेज बेसिन मैनेजमेंट, वॉटर क्वॉलिटी मैनेजमेंट, हाइड्रोइंफॉर्मेटिक्स जैसे विषयों की पढ़ाई करनी होती है. हिमस्खलन और बाढ़ जैसी प्राकृतिक आपदाओं को देखते हुए इस फील्ड में रिसर्चर्स की डिमांड बढ़ रही है.

माइक्रो-बायोलॉजी: माइक्रो-बायोलॉजी की फील्ड में एंट्री के लिए बीएससी इन लाइफ साइंस या बीएससी इन माइक्रो-बायोलॉजी कोर्स कर सकते हैं. इसके बाद मास्टर डिग्री और पीएचडी भी का ऑप्‍शन भी है. इसके अलावा पैरामेडिकल, मरीन बायोलॉजी, बिहेवियरल साइंस, फिशरीज साइंस जैसे कई फील्ड्स हैं, जिनमें साइंस में रुचि रखने वाले स्टूडेंट्स अच्छा करियर बना सकते हैं.

डेयरी साइंस: डेयरी प्रोडक्शन के क्षेत्र में भारत अहम देश है. भारत डेयरी प्रोडक्शन में अमेरिका के बाद दूसरे स्थान पर है. डेयरी टेक्नोलॉजी या डेयरी साइंस के तहत मिल्क प्रोडक्शन, प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, स्टोरेज और डिस्ट्रिब्यूशन की जानकारी दी जाती है. भारत में दूध की खपत को देखते हुए इस क्षेत्र में ट्रेंड प्रोफेशनल्स की डिमांड बढऩे लगी है. साइंस सब्जेक्ट से 12वीं करने के बाद स्टूडेंट ऑल इंडिया बेसिस पर एंट्रेंस एग्जाम पास करने के बाद चार वर्षीय स्नातक डेयरी टेक्नोलॉजी के कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं. कुछ इंस्टीट्यूट डेयरी टेक्नोलॉजी में दो वर्षीय डिप्लोमा कोर्स भी ऑफर करते हैं.

रोबोटिक साइंस: रोबोटिक साइंस का क्षेत्र काफी तेजी से पॉपुलर हो रहा है. इसका इस्तेमाल इन दिनों तकरीबन सभी क्षेत्रों में होने लगा है. जैसे- हार्ट सर्जरी, कार असेम्बलिंग, लैंडमाइंस. अगर आप इस फील्ड में आना चाहते हैं तो इस क्षेत्र से जुड़े कुछ स्पेशलाइजेशन कोर्स भी कर सकते हैं. जैसे ऑर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, रोबोटिक्स, एडवांस्‍ड रोबोटिक्स सिस्टम. कम्प्यूटर साइंस से स्नातक कर चुके स्टूडेंट्स इस कोर्स के लिए योग्य माने जाते हैं. रोबोटिक में एमई की डिग्री हासिल कर चुके स्टूडेंट्स को इसरो जैसे प्रतिष्ठित संस्‍थान में रिसर्च वर्क की नौकरी मिल सकती है.

About allinoneindia.net


Welcome to All In One India | allinoneindia.net is a junction , where you opt for different service and information.

Follow Us


© 2016 to 2018 www.allinoneindia.net , All rights reserved.