PM Modi in Kerala: जानिए Guruvayur मंदिर के बारे में, जहां गैर-हिंदुओं को नहीं मिलता प्रवेश


PM Modi in Kerala: जानिए Guruvayur मंदिर के बारे में, जहां गैर-हिंदुओं को नहीं मिलता प्रवेश

त्रिशूर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को केरल दौरे पर हैं और उन्होंने यहां के विश्व प्रसिद्ध गुरुवायुर मंदिर में दर्शन किए हैं। त्रिशूर जिले में पड़ने वाला यह मंदिर कई मायनों में बहुत खास है। इसे दक्षिण का द्वारका कहा जाता है। यहां कृष्ण भगवान के बालरूप के दर्शन होते हैं। स्थानीय लोग इसे गुरुवायुरप्पन मंदिर कहते हैं। इस मंदिर को भूलोका वैकुंठम के नाम से भी जाना जाता है, जिसका अर्थ होता है ‘पृथ्वी पर भगवान विष्णु का वास’। सबसे खास बात यह है कि इस मंदिर में गैर-हिंदुओं को जाने और पूजा करने की अनुमति नहीं है। यहां पारंपरिक वेशभूषा में ही मंदिर में जाकर पूजा की जा सकती है।

इस मंदिर के नाम में तीन शब्द छिपे हैं। गुरुवायुर शब्द 'गुरु', 'वायु' और 'ऊर' से मिलकर बना है। गुरु यानी देवगुरु बृहस्पति। वायु शब्द भगवान वायु के लिए है और और ऊर एक मलयाली शब्द है, जिसका अर्थ होता है भूमि। यानी यह मंदिर का निर्माण बृहस्पति, वायु और भूमि से मिलकर हुआ है। हालांकि इस मंदिर का नाम गुरुवायुर होने के पीछे एक अन्य कहानी भी है।

 कहा जाता है कि देवगुरु बृहस्पति को यहां भगवान श्रीकृष्ण की एक मूर्ति मिली थी। इसके बाद बृहस्पति ने भगवान वायु के साथ मिलकर कृष्ण की उस मूर्ति को यहां स्थापित किया। यहां कृष्ण की मूर्ति बहुत खास है। उनके चार हाथ हैं। एक हाथ में शंख, दूसरे में सुदर्शन चक्र, तीसरे और चौथे हाथ में भगवान ने कमल धारण कर रखा है।




© 2016 to 2019 www.allinoneindia.net , All rights reserved.